Sufinama

युवा सूफ़ी शायर

कराची के मा’रूफ़ सना-ख़्वान-ए-रसूल और शे’र-ओ-सुख़न के लिए मशहूर

ख़ानक़ाह-ए-बल्ख़िया फ़िदोसिया, फ़तूहा के सज्जादा-नशीं के साहब-ज़ादे

1970 अटक

अटक के अ प्रसिद्ध लेखक, कवि और शोधकर्ता हैं। आप पाकिस्तान राईटर्ज़ गिल्ड के भी सदस्य हैं

सिलसिला-ए-अबुल उलाइया जहाँगीरिया के बेहतरीन मुसन्निफ़-ओ-शाइ’र और गोवा में सूफी परंपरा के प्रसार के लिए मशहूर

ख़ानक़ाह नासरिया, सहारनपुर के चश्म-ओ-चराग़

1947 गया

ख़ानक़ाह करीमिया, बिथो शरीफ़ के सज्जादा-नशीं और मशहूर शाइ’र

इलाहाबाद विश्वविद्यालय में उर्दू विभाग में सहायक प्रोफ़ेसर और हमीद वैशालवी के शागिर्द

नूर नूही के साहब-ज़ादे और बज़्म-ए-नूर, आरा के सरपरस्त

माहनामा अशर्फ़िया (मुबारकपुर) के पूर्व उप संपादक

आस्ताना हज़रत क़मरुद्दीन अबुल-उ'लाइ, से वाबस्ता

आधुनिक समय के महत्वपूर्ण ना’त-गो शाइ’र

ख़ानक़ाह बल्ख़िया फ़िरदोसिया, फ़तूहा सज्जादा-नशीं के छोटे भाई और बड़े आ'लिम

ख़ानक़ाह सिराजिया, बनारस के सज्जादा-नशीं और प्रसिद्ध शोधकर्ता और विद्वान

मनेरी फ़ाउंडेशन के सरपरस्त और तसव्वुफ़ के ज़ौक़ से मा’मूर

दिल्ली में मुक़ीम पुर-गो-शाइ’र और ऑल इंडिया रेडियो की फ़ारसी सर्विस से वाबस्ता

प्रमुख पाकिस्तानी शोधकर्ता, लेखक और कवि और पंजाब विश्वविद्यालय (लाहौर) के अध्यक्ष

दौर-ए-हाज़िर के एक मुहक़्क़िक़ और शे’र-ओ-अदब और मज़हबी,तारीख़ी तहक़ीक़ात में एक मुनफ़रिद मुक़ाम रखते हैं, बिल-ख़सूस ना’तिया अदब आप का शनाख़्त नामा है

दबिस्तान-ए-नव्वाबी का एक महकता गुलाब

रोज़-नामा इन्क़िलाब, पटना के पटना के पूर्व उप संपादक

ख़ानक़ाह आरफ़िया, सय्यद सरावां, इलाहाबाद के सज्जादा-नशीं और मशहूर धर्मगुरू

बोलिए