Sufinama

abr-e-KHush ast wa waqt-e-KHush ast wa hawa-e-KHush

Amir Khusrau

abr-e-KHush ast wa waqt-e-KHush ast wa hawa-e-KHush

Amir Khusrau

MORE BYAmir Khusrau

    INTERESTING FACT

    Translation: Amara Ali

    abr-e-ḳhush ast va vaqt-e-ḳhush ast va havā-e-ḳhush

    sāqī-e-mast daada ba-mastāñ salā-e-ḳhush

    ख़ूबसूरत बादल हैं सुहाना वक़्त है और मौसम अच्छा है. मस्त साक़ी ने मस्तों को ख़ुश्ख़बरी दी है.

    bārān-e-ḳhush rasīd va harīfān-e-aish

    gasht āshnā-e-jāñ va zahe āshnā-e-ḳhush

    ख़ूबसूरत बारिश पहुँची है और ऐश करने वालों को रूह का सुकूँ और अच्छे साथी मिल गए हैं.

    imroz pārsā.ī-e-zāhid ze-be-zarest

    zar ki be-ḳhabar shavad aañ pārsā-e-ḳhush

    आज ज़ाहिद की पारसाई बे-ज़री की वजह से कहाँ है वो दौलत कि वो ख़ूबसूरत पारसा बे-ख़बर हो जाए.

    āñkas ze-hushyārī-e-aql ast be-ḳhabar

    kaz baada be-ḳhabar na-shavad dar havā-e-ḳhus

    वो शख़्स अक़्ल की होशियार से बे-ख़बर है. जो अच्छे मौसम में शराब से ग़ाफ़िल हो जाए.

    garche daġhā-e-tū ba-ḳhush ast ai farishta haañ

    sū-e-asmāñ na-barī iiñ duā-e-ḳhush

    अगर्चे तौबा की दुआ अच्छी है फ़रिश्ते इस अच्छी दुआ को आसमान की तरफ़ ले जाना.

    mastān-e-ishq dil-o-jāñ vaqf-e-shāhid ast

    hujjat ze-ḳhatt-e-sāqī va mutrib-govā-e-ḳhush

    इश्क़ के मारे हुए दिल-ओ-जान से मुशाहिदा करते हैं. साक़ी के ख़त का और मुत्रिब के चेहरे का.

    be-rū-e-ḳhūb ḳhush na-būvad dil ba-hech

    gul garche ḳhūb-rū buvad va baaġh jā-e-ḳhush

    ख़ूबसूरत चेहरे के बग़ैर दिल कहीं ख़ुश नहीं होता अगर्चे फूल ख़ूबसूरत होते हैं और बाग़ अच्छी जगह रहे.

    ishq-e-butāñ agarche balā.est jāñ-gudāz

    'ḳhusrav' ba-jān-o-dīda ḳharīd iiñ balā-e-ḳhush

    ‘ख़ुसरौ’ इश्क़-ए-बुतान अगर्चे बुरी बला है. लेकिन इस ख़ूबसूरत बला के दिल-ओ-जान से ख़रीदार बन जाओ.

    abr-e-KHush ast wa waqt-e-KHush ast wa hawa-e-KHush

    saqi-e-mast dada ba-mastan sala-e-KHush

    ख़ूबसूरत बादल हैं सुहाना वक़्त है और मौसम अच्छा है. मस्त साक़ी ने मस्तों को ख़ुश्ख़बरी दी है.

    baran-e-KHush rasid wa harifan-e-aish ra

    gasht aashna-e-jaan wa zahe aashna-e-KHush

    ख़ूबसूरत बारिश पहुँची है और ऐश करने वालों को रूह का सुकूँ और अच्छे साथी मिल गए हैं.

    imroz parsai-e-zahid ze-be-zarest

    ku zar ki be-KHabar shawad aan parsa-e-KHush

    आज ज़ाहिद की पारसाई बे-ज़री की वजह से कहाँ है वो दौलत कि वो ख़ूबसूरत पारसा बे-ख़बर हो जाए.

    aankas ze-hushyari-e-aql ast be-KHabar

    kaz baada be-KHabar na-shawad dar hawa-e-KHus

    वो शख़्स अक़्ल की होशियार से बे-ख़बर है. जो अच्छे मौसम में शराब से ग़ाफ़िल हो जाए.

    garche dagha-e-tu ba-KHush ast ai farishta han

    ta su-e-asman na-bari in dua-e-KHush

    अगर्चे तौबा की दुआ अच्छी है फ़रिश्ते इस अच्छी दुआ को आसमान की तरफ़ ले जाना.

    mastan-e-ishq ra dil-o-jaan waqf-e-shahid ast

    hujjat ze-KHatt-e-saqi wa mutrib-gowa-e-KHush

    इश्क़ के मारे हुए दिल-ओ-जान से मुशाहिदा करते हैं. साक़ी के ख़त का और मुत्रिब के चेहरे का.

    be-ru-e-KHub KHush na-buwad dil ba-hech ja

    gul garche KHub-ru buwad wa bagh ja-e-KHush

    ख़ूबसूरत चेहरे के बग़ैर दिल कहीं ख़ुश नहीं होता अगर्चे फूल ख़ूबसूरत होते हैं और बाग़ अच्छी जगह रहे.

    ishq-e-butan agarche balaest jaan-gudaz

    'KHusraw' ba-jaan-o-dida KHarid in bala-e-KHush

    ‘ख़ुसरौ’ इश्क़-ए-बुतान अगर्चे बुरी बला है. लेकिन इस ख़ूबसूरत बला के दिल-ओ-जान से ख़रीदार बन जाओ.

    0
    COMMENTS
    VIEW COMMENTS

    Additional information available

    Click on the INTERESTING button to view additional information associated with this sher.

    OKAY

    About this sher

    Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipiscing elit. Morbi volutpat porttitor tortor, varius dignissim.

    Close

    rare Unpublished content

    This ghazal contains ashaar not published in the public domain. These are marked by a red line on the left.

    OKAY