Sufinama

ai dastat az nigar safed-o-syah-o-surKH

Amir Khusrau

ai dastat az nigar safed-o-syah-o-surKH

Amir Khusrau

MORE BYAmir Khusrau

    INTERESTING FACT

    Translation: Amara Ali

    ai dastat az nigār safed-o-syāh-o-surḳh

    ve chashmat az ḳhumār safed-o-syāh-o-surḳh

    तुम्हारा हाथ मेंहदी से सफेद है सियाह है और सुर्ख़ है, तुम्हारी आँख ख़ुमार से सफ़ेद है सियाह है और सुर्ख़ है.

    az barg va az supārī va az rañg chūna shud

    dandān-e-āñ nigār safed-o-syāh-o-surḳh

    पत्ती से सुपारी से रंग से चूने से उस शोख़ के दाँत सफ़ेद सुर्ख़ और सियाह हो गौए हैं.

    raftī va dar firāq-e-tū chashm ze-girya gasht

    chuuñ abr-e-nau-bahār safed-o-syāh-o-surḳh

    तुम गए और तुम्हारे फ़िराक़ में रो-रो कर मेरी आँख बहार के बादलों की तरह सफ़ेद सुर्ख़ और सियाह हो गई.

    sāzam nisār-e-āñ-ruḳh-e-zebā garam buvad

    dar kiisa sad-hazār safed-o-syāh-o-surḳh

    मैं उस ख़ुबसूरत चेहरे पर निसार कर देता, जेब में एक लाख सियाह, सफ़ेद और सुर्ख़ सिक्के होते.

    'ḳhusrav' radīf-e-īñ ġhazal az bahr-e-imtihāñ

    āvarda dar qatār safed-o-syāh-o-surḳh

    ‘ख़ुसरौ’ की यह ग़ज़ल इम्तिहान के तौर पर सफ़ेद सियाह और सुर्ख़ की रदीफ़ में लाया.

    ai dastat az nigar safed-o-syah-o-surKH

    we chashmat az KHumar safed-o-syah-o-surKH

    तुम्हारा हाथ मेंहदी से सफेद है सियाह है और सुर्ख़ है, तुम्हारी आँख ख़ुमार से सफ़ेद है सियाह है और सुर्ख़ है.

    az barg wa az supari wa az rang chuna shud

    dandan-e-an nigar safed-o-syah-o-surKH

    पत्ती से सुपारी से रंग से चूने से उस शोख़ के दाँत सफ़ेद सुर्ख़ और सियाह हो गौए हैं.

    rafti wa dar firaq-e-tu chashm ze-girya gasht

    chun abr-e-nau-bahaar safed-o-syah-o-surKH

    तुम गए और तुम्हारे फ़िराक़ में रो-रो कर मेरी आँख बहार के बादलों की तरह सफ़ेद सुर्ख़ और सियाह हो गई.

    sazam nisar-e-an-ruKH-e-zeba garam buwad

    dar kisa sad-hazar safed-o-syah-o-surKH

    मैं उस ख़ुबसूरत चेहरे पर निसार कर देता, जेब में एक लाख सियाह, सफ़ेद और सुर्ख़ सिक्के होते.

    'KHusraw' radif-e-in ghazal az bahr-e-imtihan

    aawarda dar qatar safed-o-syah-o-surKH

    ‘ख़ुसरौ’ की यह ग़ज़ल इम्तिहान के तौर पर सफ़ेद सियाह और सुर्ख़ की रदीफ़ में लाया.

    0
    COMMENTS
    VIEW COMMENTS

    Additional information available

    Click on the INTERESTING button to view additional information associated with this sher.

    OKAY

    About this sher

    Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipiscing elit. Morbi volutpat porttitor tortor, varius dignissim.

    Close

    rare Unpublished content

    This ghazal contains ashaar not published in the public domain. These are marked by a red line on the left.

    OKAY