Sufinama

ai zada nawikam ba-jaan yak do seh chaar-o-panj-o-shash

Amir Khusrau

ai zada nawikam ba-jaan yak do seh chaar-o-panj-o-shash

Amir Khusrau

MORE BY Amir Khusrau

    INTERESTING FACT

    Translation: Amara Ali

    ai zada nāvikam ba-jāñ yak do seh chār-o-panj-o-shash

    gashta chū banda har zamāñ yak do seh chār-o-panj-o-shash

    वह जिसने मेरी रूह पर तीर बरसाए, एक दो तीन, चार, पाँच, छः, मुझ जैसे हर लम्हा शिकार किए, एक दो तीन, चार, पाँच, छः

    gufta ba va.ada gah gahe yak shab az aañ shavam

    roz-e-guzashta darmiyāñ yak do seh chār-o-panj-o-shash

    कभी कभी यह वा’दा किया एक रात में तुम्हारे हवाले हूँगा. बीच में दिन गुज़र गए एक दो तीन, चार, पाँच, छः

    guft safā z ġhairatam kāyad agar ze-kū-e-tū

    ham-rah-e-bū-e-tust jaañ yak do seh chār-o-panj-o-shash

    सबा ने कहा मेरी ग़ैरत से अगर तुम्हारी गली में से आए तुम्हारी ख़ुश्बू के साथ रूह एक दो तीन, चार, पाँच, छः

    pesh-e-dar-e-tū har-nafas az havas-e-dahān-e-tū

    bosa zanam bar āstāñ yak do seh havas-e-dahān-e-tū

    हर लम्हा तुम्हारेदरवाज़े के सामने, तुम्हारी होंठों की चाहत में तुम्हारे आस्ताना पर बोसे देता हूँ एक दो तीन, चार, पाँच, छः

    man.a-e-do-chashm kun ki shud az dil-e-ḳhasta har-dame

    rāyat-e-āñ do nā-tavāñ yak do seh havas-e-dahān-e-tū

    दो आँखों को मना करो कि मेरे टूटे दिल से हा लम्हा उन दोनों की निशानिहाँ बन गई हैं एक दो तीन, चार, पाँच, छः

    gaah nazāra chuuñ ki jalva kunī jamāl

    gashta shavand āshiqāñ yak do seh havas-e-dahān-e-tū

    तुम्हारा नज़्ज़ारा करने से जब तुम अपने जमाल का जल्वः दिखाते हो आशिक़ मर जाते हैं. एक दो तीन, चार, पाँच, छः

    āh-o-fuġhāñ ze-mardumāñ bas-ki hamī kunad dame

    'ḳhusrau'-e-ḳhasta-dil fuġhāñ yak do seh havas-e-dahān-e-tū

    लोगों की आह-ओ-फुग़ाँ से एक लम्हे के लिए करता है ख़स्ता दिल ‘ख़ुसरौ’ का दिल आह-ओ-फुग़ाँ, एक दो तीन, चार, पाँच, छः

    ai zada nawikam ba-jaan yak do seh chaar-o-panj-o-shash

    gashta chu banda har zaman yak do seh chaar-o-panj-o-shash

    वह जिसने मेरी रूह पर तीर बरसाए, एक दो तीन, चार, पाँच, छः, मुझ जैसे हर लम्हा शिकार किए, एक दो तीन, चार, पाँच, छः

    gufta ba wada gah gahe yak shab az aan tu shawam

    roz-e-guzashta darmiyan yak do seh chaar-o-panj-o-shash

    कभी कभी यह वा’दा किया एक रात में तुम्हारे हवाले हूँगा. बीच में दिन गुज़र गए एक दो तीन, चार, पाँच, छः

    guft safa z ghairatam kayad agar ze-ku-e-tu

    ham-rah-e-bu-e-tust jaan yak do seh chaar-o-panj-o-shash

    सबा ने कहा मेरी ग़ैरत से अगर तुम्हारी गली में से आए तुम्हारी ख़ुश्बू के साथ रूह एक दो तीन, चार, पाँच, छः

    pesh-e-dar-e-tu har-nafas az hawas-e-dahan-e-tu

    bosa zanam bar aastan yak do seh hawas-e-dahan-e-tu

    हर लम्हा तुम्हारेदरवाज़े के सामने, तुम्हारी होंठों की चाहत में तुम्हारे आस्ताना पर बोसे देता हूँ एक दो तीन, चार, पाँच, छः

    mana-e-do-chashm kun ki shud az dil-e-KHasta har-dame

    rayat-e-an do na-tawan yak do seh hawas-e-dahan-e-tu

    दो आँखों को मना करो कि मेरे टूटे दिल से हा लम्हा उन दोनों की निशानिहाँ बन गई हैं एक दो तीन, चार, पाँच, छः

    gah nazara chun ki tu jalwa kuni jamal ra

    gashta shawand aashiqan yak do seh hawas-e-dahan-e-tu

    तुम्हारा नज़्ज़ारा करने से जब तुम अपने जमाल का जल्वः दिखाते हो आशिक़ मर जाते हैं. एक दो तीन, चार, पाँच, छः

    aah-o-fughan ze-marduman bas-ki hami kunad dame

    'KHusrau'-e-KHasta-dil fughan yak do seh hawas-e-dahan-e-tu

    लोगों की आह-ओ-फुग़ाँ से एक लम्हे के लिए करता है ख़स्ता दिल ‘ख़ुसरौ’ का दिल आह-ओ-फुग़ाँ, एक दो तीन, चार, पाँच, छः

    0
    COMMENTS
    VIEW COMMENTS

    Additional information available

    Click on the INTERESTING button to view additional information associated with this sher.

    OKAY

    About this sher

    Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipiscing elit. Morbi volutpat porttitor tortor, varius dignissim.

    Close

    rare Unpublished content

    This ghazal contains ashaar not published in the public domain. These are marked by a red line on the left.

    OKAY

    Added to your favorites

    Removed from your favorites