Sufinama

ma aashiq-e-ru-e-nekowanem

Amir Khusrau

ma aashiq-e-ru-e-nekowanem

Amir Khusrau

MORE BYAmir Khusrau

    INTERESTING FACT

    Translation: Amara Ali

    āshiq-e-rū-e-nekovānem

    dīvāna-e-shakl-e-har-javānem

    हम ख़ूबसूरत चेहरों के आशिक़ हैं. हम हर जवाँ की शक्ल के दीवने हैं.

    har ki chakīd ḳhuue ze-ḳhūbāñ

    ḳhuuñ ze-do-chashm-e-ḳhud chakānem

    जहाँ भी ख़ूबसूरत लोगों का पसीना गिरता है वहाँ हमारी आँखों से ख़ूँ टपकता है.

    har-chand ze-ishq muue gashtem

    bar ḳhātir-e-nāzukāñ girānem

    अगर्चे हम इश्क़ में बाल की तरह कम्ज़ोर हो गए. लेकिन नाज़ुक लोगों पर हम अब भी गिराँ हैं

    zinda na m juz ba-yak dost

    na yak tan va na hazār jānem

    हम उस एक के बग़ैर ज़िंदा नहीं यह एक जिस्म हज़ार जानें.

    hijr ast kamīn-e-jāñ-girafta

    jaanā bayā ki zinda mānim

    हिज्र हमारी रूह की ताक में बैठा है मेरी जाँ जा कि मैं ज़िंदा रह सकूँ

    dil-e-ḳhud ze-ġhhamat digar na-māñda

    kaañ umr-e-hisāb na-dānem

    तुम्हारे ग़म में दिल ही नहीं रह गया. हम उम्र का हिसाब क्या जानें

    talḳhī ma-numā ki shor baḳhtem

    shamshīr ma-kash ki be-zabānem

    तल्ख़ी दिखा कि हम बद-नसीब हैं तल्वार खींच कि हम बे-ज़बान नहीं.

    gar sañg zanī va gar dehī quvvat

    'ḳhusrav' sag-e-tust va hamānem

    तुम पत्थर मारो या ताक़त बख़्शो ‘ख़ुसरौ’ तुम्हारा कुत्ता है और हम वही हैं.

    ma aashiq-e-ru-e-nekowanem

    diwana-e-shakl-e-har-jawanem

    हम ख़ूबसूरत चेहरों के आशिक़ हैं. हम हर जवाँ की शक्ल के दीवने हैं.

    har ja ki chakid KHue ze-KHuban

    ma KHun ze-do-chashm-e-KHud chakanem

    जहाँ भी ख़ूबसूरत लोगों का पसीना गिरता है वहाँ हमारी आँखों से ख़ूँ टपकता है.

    har-chand ze-ishq mue gashtem

    bar KHatir-e-nazukan giranem

    अगर्चे हम इश्क़ में बाल की तरह कम्ज़ोर हो गए. लेकिन नाज़ुक लोगों पर हम अब भी गिराँ हैं

    ma zinda na m juz ba-yak dost

    na yak tan wa na hazar jaanem

    हम उस एक के बग़ैर ज़िंदा नहीं यह एक जिस्म हज़ार जानें.

    hijr ast kamin-e-jaan-girafta

    jaana tu baya ki zinda manim

    हिज्र हमारी रूह की ताक में बैठा है मेरी जाँ जा कि मैं ज़िंदा रह सकूँ

    dil-e-KHud ze-ghamat digar na-manda

    kan umr-e-hisab ra na-danem

    तुम्हारे ग़म में दिल ही नहीं रह गया. हम उम्र का हिसाब क्या जानें

    talKHi ma-numa ki shor baKHtem

    shamshir ma-kash ki be-zabanem

    तल्ख़ी दिखा कि हम बद-नसीब हैं तल्वार खींच कि हम बे-ज़बान नहीं.

    gar sang zani wa gar dehi quwwat

    'KHusraw' sag-e-tust wa ma hamanem

    तुम पत्थर मारो या ताक़त बख़्शो ‘ख़ुसरौ’ तुम्हारा कुत्ता है और हम वही हैं.

    0
    COMMENTS
    VIEW COMMENTS

    Additional information available

    Click on the INTERESTING button to view additional information associated with this sher.

    OKAY

    About this sher

    Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipiscing elit. Morbi volutpat porttitor tortor, varius dignissim.

    Close

    rare Unpublished content

    This ghazal contains ashaar not published in the public domain. These are marked by a red line on the left.

    OKAY