Sufinama

we kuza-gari ba-didam andar bazar

Omar Khayyam

we kuza-gari ba-didam andar bazar

Omar Khayyam

MORE BY Omar Khayyam

    ve kūza-garī ba-dīdam andar bāzār

    bar pāra-e-gul-e-hamī lakad zad bisyār

    vaañ gul ba-zabān-e-hāl uu guft

    man ham chuuñ būda-am marā neko daar

    कल मुझ को हाट में एक कुम्हार दिखलाई दिया था जो थोड़ी-सी गीली मिट्टी को अपने पैरो से रौंद रहा था। वह मिट्टी उससे यह लफ़्ज़ कह रही थी कि मैं भी तेरे ही बराबर किसी वक़्त आदमी के रूप में थी और मुझ में भी यह सब ख़ुसूसियत मौजूद थीं।

    we kuza-gari ba-didam andar bazar

    bar para-e-gul-e-hami lakad zad bisyar

    wan gul ba-zaban-e-haal ba u mi guft

    man hum chun tu buda-am mara neko dar

    कल मुझ को हाट में एक कुम्हार दिखलाई दिया था जो थोड़ी-सी गीली मिट्टी को अपने पैरो से रौंद रहा था। वह मिट्टी उससे यह लफ़्ज़ कह रही थी कि मैं भी तेरे ही बराबर किसी वक़्त आदमी के रूप में थी और मुझ में भी यह सब ख़ुसूसियत मौजूद थीं।

    0
    COMMENTS
    VIEW COMMENTS

    Additional information available

    Click on the INTERESTING button to view additional information associated with this sher.

    OKAY

    About this sher

    Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipiscing elit. Morbi volutpat porttitor tortor, varius dignissim.

    Close

    rare Unpublished content

    This ghazal contains ashaar not published in the public domain. These are marked by a red line on the left.

    OKAY