Sufinama

gar dilbar-e-man bar man aayad

Amir Khusrau

gar dilbar-e-man bar man aayad

Amir Khusrau

MORE BY Amir Khusrau

    INTERESTING FACT

    Translation: Amara Ali

    gar dilbar-e-man bar man aayad

    dil dar ba-rau ruuh dar tan aayad

    अगर मेरा दिल-बर मेरे पहलू में जाए तो दिल पहलू में और रूः जिस्म में जाए.

    tarsam ki dar intizār-e-rūyash

    rūyam ba-namāz-e-ḳhuftan aayad

    मैं डरता हूँ कि उसके चेहरे के इंतिज़ार में कहीन नमाज़-ए-इशा का वक़्त हो जाए.

    shud mausam-e-āñ-ki dar gulistāñ

    bulbul ba-navā ba-guftan aayad

    वो मौसम गया है कि बुल्बुल नग़्मे अलापने लगे

    abr aab zanad ze-dīda bar ḳhaak

    farrāsh-e-sabā ba-raftan aayad

    बादल अपनी आँखों से ज़मीन पर छिड़काओ करे, बाद-ए-सबा का फर्राश चलने लगे.

    va ze-nāla-e-murġh va girya-e-abr

    gul ḳhandad va dar shaguftan aayad

    और परिंदे के गाने और बादलों के होने से फूल हँसने लगें और खिलने पर जाएं.

    saaqī kashd intizār-e-bulbul

    baaz gule ba gulshan aayad

    chuuñ sham.a sitāda-am ba-yak

    parvāna agar ba-kushtan aayad

    gar dilbar-e-man bar man aayad

    dil dar ba-rau ruh dar tan aayad

    अगर मेरा दिल-बर मेरे पहलू में जाए तो दिल पहलू में और रूः जिस्म में जाए.

    tarsam ki dar intizar-e-ruyash

    ruyam ba-namaz-e-KHuftan aayad

    मैं डरता हूँ कि उसके चेहरे के इंतिज़ार में कहीन नमाज़-ए-इशा का वक़्त हो जाए.

    shud mausam-e-an-ki dar gulistan

    bulbul ba-nawa ba-guftan aayad

    वो मौसम गया है कि बुल्बुल नग़्मे अलापने लगे

    abr aab zanad ze-dida bar KHak

    farrash-e-saba ba-raftan aayad

    बादल अपनी आँखों से ज़मीन पर छिड़काओ करे, बाद-ए-सबा का फर्राश चलने लगे.

    wa ze-nala-e-murgh wa girya-e-abr

    gul KHandad wa dar shaguftan aayad

    और परिंदे के गाने और बादलों के होने से फूल हँसने लगें और खिलने पर जाएं.

    saqi kashd intizar-e-bulbul

    ta baz gule ba gulshan aayad

    chun shama sitada-am ba-yak pa

    parwana agar ba-kushtan aayad

    0
    COMMENTS
    VIEW COMMENTS

    Additional information available

    Click on the INTERESTING button to view additional information associated with this sher.

    OKAY

    About this sher

    Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipiscing elit. Morbi volutpat porttitor tortor, varius dignissim.

    Close

    rare Unpublished content

    This ghazal contains ashaar not published in the public domain. These are marked by a red line on the left.

    OKAY

    Added to your favorites

    Removed from your favorites