Sufinama

KHwab ze-chashm-e-man ba-shud chashm-e-tu bast KHwab-e-man

Amir Khusrau

KHwab ze-chashm-e-man ba-shud chashm-e-tu bast KHwab-e-man

Amir Khusrau

MORE BY Amir Khusrau

    INTERESTING FACT

    Translation: Amara Ali

    ḳhvāb ze-chashm-e-man ba-shud chashm-e-tū bast ḳhvāb-e-man

    taab na-māñda dar tanam zulf-e-tū burd tāb-e-man

    मेरी आँखों से नींद उड़ गई तुम्हारी आँखों ने मेरी नींद बंद कर दी मेरे जिस्म में ताक़त नहीं रह गई तुम्हारी ज़ुल्फ़ ने मेरी ताक़त छीन ली.

    fitna-e-chashm sitad ḳhvāb-e-marā ba-ahd-e-tū

    fitna chū ḳhvāb kam kunad bahr-e-che burda ḳhvāb-e-man

    तुम्हारे अहद में तुम्हारी आँख के फ़ित्ने ने मेरी नींद ख़त्म कर दी फ़ित्ना अगर नींद कम करता है तो मेरे ख़्वाब क्यूँ चुराए हैं.

    tishna-e-ḳhūñ fitna-am bas-ki ba-ḳhurdan ḳhūn-e-man

    dushman-e-āb-e-dīda-am bas-ki ba-reḳht āb-e-man

    यह फ़ित्ना मेरे ख़ून का प्यासा है उसने मेरा बहुत ख़ून पिया मेरी आँखों के पानी का दुश्मन है उसने मेरा बहुत पानी बहाया.

    dard-e-sareyat mī-dehad girya-zār-e-man bale

    ḳhud hama dard-e-sar buvad hāsil-e-īñ gulāb-e-man

    मेरा रोना धोना तुम्हारे लिए दर्जा-ए-सर का बाइस बनता है मेरे इस गुलाब का हासिल ख़ुद ही दर्द-ए-सर है.

    sozish-e-ḳhud che goyamat bas-ki ba-guft dam-ba-dam

    ātishīñ-dil ba-sad-zabāñ hāl-e-dil kabāb-e-man

    मैं अपनी जान तुम्हें क्या बताऊँ हा लहज़ा दिल की तपिश सौ तरह से मेरे दिल का हाल बयान करती है.

    roz-e-man az gasht shab var ġham-e-raushnī ḳhuram

    āh-e-jahāñ-faroz-e-dil bas buvad āftāb-e-man

    मेरा दिन तुम्हारी वजह से रात बन गया मेरी आह मेरे लिए सूरज बन गई.

    dar shab-e-māhtāb agar sag hama shab fuġhāñ kund

    aañ sag-e-bā-fuġhāñ manam rū-e-tū māhtāb-e-man

    चांदनी-रात में अगर कोई कुत्ता भौंकता है तो वह भूकने वाला कुत्ता मैं मैं तुम्हारा चेहरा मेरे लिए चाँद है.

    umr shitāb mī-kunad vaqt-e-vafā-e-ahd shud

    hast ze-umr-e-be-vafā beshtar iiñ shitāb-e-man

    उम्र जल्दी-जल्दी गुज़र रही है. वादा निभाने का वक़्त गया है लेकिन मैं इस बे-वफ़ा उम्र से जल्दी में हूँ.

    az humā.e ke fitad saaya bar āshiyān-e-mā

    chuġhad ba hiila mī-parad dar vatan-e-ḳharāb-e-man

    हमारे आशियाने पर तुम्हारे हमा का साया कहाँ पड़ता है हमारे वतन में बहाने बहाने उल्लू उड़ते हैं.

    dar-e-tū hamī zadam lab ba-jafā kushādem

    baḳht dar-e-digar gashūd az pai-e-fat.h-e-bāb-e-man

    कल मैं तुम्हारा दरवाज़ा खटखटा रहा था और तुमने ग़ुस्से से जवाब दिया नसीब ने मेरी फ़तह के लिए एक और दरवाज़ा खोल दिया.

    bosa-e-savāl kardamat bosa zadī ba-zer-e-lab

    gar na man ablaham hamīñ bas na-būvad javāb-e-man

    मैं ने तुम से बोसा का सवाल किया और तुम ने ज़ेर-ए-लब बोसा दिया मैं पागल तो नहीं हूँ यह मेरी बात का जवाब नहीं था.

    'ḳhusrav' az inqilāb-e-tū garche ki maañd be-sukūñ

    ham ze-sukūñ ba-dil shavad iiñ hama inqilāb-e-man

    तुम्हारे बदलने से ‘ख़ुसरौ’ बे-सुकून हो गया मेरा यह इंक़िलाब मेरे दिल से सुकून ख़त्म कर रहा है.

    KHwab ze-chashm-e-man ba-shud chashm-e-tu bast KHwab-e-man

    tab na-manda dar tanam zulf-e-tu burd tab-e-man

    मेरी आँखों से नींद उड़ गई तुम्हारी आँखों ने मेरी नींद बंद कर दी मेरे जिस्म में ताक़त नहीं रह गई तुम्हारी ज़ुल्फ़ ने मेरी ताक़त छीन ली.

    fitna-e-chashm tu sitad KHwab-e-mara ba-ahd-e-tu

    fitna chu KHwab kam kunad bahr-e-che burda KHwab-e-man

    तुम्हारे अहद में तुम्हारी आँख के फ़ित्ने ने मेरी नींद ख़त्म कर दी फ़ित्ना अगर नींद कम करता है तो मेरे ख़्वाब क्यूँ चुराए हैं.

    tishna-e-KHun fitna-am bas-ki ba-KHurdan KHun-e-man

    dushman-e-ab-e-dida-am bas-ki ba-reKHt aab-e-man

    यह फ़ित्ना मेरे ख़ून का प्यासा है उसने मेरा बहुत ख़ून पिया मेरी आँखों के पानी का दुश्मन है उसने मेरा बहुत पानी बहाया.

    dard-e-sareyat mi-dehad girya-zar-e-man bale

    KHud hama dard-e-sar buwad hasil-e-in gulab-e-man

    मेरा रोना धोना तुम्हारे लिए दर्जा-ए-सर का बाइस बनता है मेरे इस गुलाब का हासिल ख़ुद ही दर्द-ए-सर है.

    sozish-e-KHud che goyamat bas-ki ba-guft dam-ba-dam

    aatishin-dil ba-sad-zaban haal-e-dil kabab-e-man

    मैं अपनी जान तुम्हें क्या बताऊँ हा लहज़ा दिल की तपिश सौ तरह से मेरे दिल का हाल बयान करती है.

    roz-e-man az tu gasht shab war gham-e-raushni KHuram

    aah-e-jahan-faroz-e-dil bas buwad aaftab-e-man

    मेरा दिन तुम्हारी वजह से रात बन गया मेरी आह मेरे लिए सूरज बन गई.

    dar shab-e-mahtab agar sag hama shab fughan kund

    aan sag-e-ba-fughan manam ru-e-tu mahtab-e-man

    चांदनी-रात में अगर कोई कुत्ता भौंकता है तो वह भूकने वाला कुत्ता मैं मैं तुम्हारा चेहरा मेरे लिए चाँद है.

    umr shitab mi-kunad waqt-e-wafa-e-ahd shud

    hast ze-umr-e-be-wafa beshtar in shitab-e-man

    उम्र जल्दी-जल्दी गुज़र रही है. वादा निभाने का वक़्त गया है लेकिन मैं इस बे-वफ़ा उम्र से जल्दी में हूँ.

    az tu humae ke fitad saya bar aashiyan-e-ma

    chughad ba hila mi-parad dar watan-e-KHarab-e-man

    हमारे आशियाने पर तुम्हारे हमा का साया कहाँ पड़ता है हमारे वतन में बहाने बहाने उल्लू उड़ते हैं.

    di dar-e-tu hami zadam lab ba-jafa kushadem

    baKHt dar-e-digar gashud az pai-e-fath-e-bab-e-man

    कल मैं तुम्हारा दरवाज़ा खटखटा रहा था और तुमने ग़ुस्से से जवाब दिया नसीब ने मेरी फ़तह के लिए एक और दरवाज़ा खोल दिया.

    bosa-e-sawal kardamat bosa zadi ba-zer-e-lab

    gar na man ablaham hamin bas na-buwad jawab-e-man

    मैं ने तुम से बोसा का सवाल किया और तुम ने ज़ेर-ए-लब बोसा दिया मैं पागल तो नहीं हूँ यह मेरी बात का जवाब नहीं था.

    'KHusraw' az inqilab-e-tu garche ki mand be-sukun

    hum ze-sukun ba-dil shawad in hama inqilab-e-man

    तुम्हारे बदलने से ‘ख़ुसरौ’ बे-सुकून हो गया मेरा यह इंक़िलाब मेरे दिल से सुकून ख़त्म कर रहा है.

    0
    COMMENTS
    VIEW COMMENTS

    Additional information available

    Click on the INTERESTING button to view additional information associated with this sher.

    OKAY

    About this sher

    Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipiscing elit. Morbi volutpat porttitor tortor, varius dignissim.

    Close

    rare Unpublished content

    This ghazal contains ashaar not published in the public domain. These are marked by a red line on the left.

    OKAY

    Added to your favorites

    Removed from your favorites