Sufinama

गीत

सूफ़ी संतों ने बहुत से गीत और ठुमरियां लिखी हैं जिन्हें क़व्वाल सूफ़ी ख़ानक़ाहों पर कसरत से पढ़ते है।

59
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

छाप-तिलक

अमीर ख़ुसरौ

ग़ज़ब ढा गयो तोरे नैनाँ मुरारी

अब्दुल हादी काविश

चली सखी पनिया भरन को चली

नाज़ाँ शोलापुरी

हाय रंगीला वो हाय छबीला वो

सय्यद फ़ैज़ान वारसी

आओ पियरवा हमरे मंदिरवा

शाह तुराब अली क़लंदर

नीकी लगत मोहे अपने पिया की

शाह तुराब अली क़लंदर

पिया रात तोरे गरे लाग

शाह काज़िम क़लंदर

मो-का दिखाय दे सैयाँ का नगरा

शाह तुराब अली क़लंदर

गुर की कृपा जब भई मो पर

शाह काज़िम क़लंदर

मन ज़ुल्फन मा फँस फँस कै

शाह काज़िम क़लंदर

बीच डगर भीजत हूँ ठाढ़ी

शाह तुराब अली क़लंदर

सोही चुनरिया रंग दे मो-का

शाह तुराब अली क़लंदर

नींद उचट गई नीर बहे नित

शाह काज़िम क़लंदर
बोलिए