Sufinama

आज का विचार

A man's worst state

A man is in his worst state when he considers himself good and pious.

A man's worst state

A man is in his worst state when he considers himself good and pious.

प्रस्तुति

सूफ़ी

अहसनुल्लाह ख़ाँ बयान

1727-1798

फ़रहाद किस उम्मीद पे लाता है जू-ए-शीर

वाँ ख़ून की हवस है नहीं आरज़ू-ए-शीर

संत

मीरा

1498-1557

मैं बिरहिन बैठी जागूँ, जगत सब सोबै री आली

मैं बिरहिन बैठी जागूँ, जगत सब सोबै री आली

काव्य संचयन

सूफ़ी शब्दावली

ओमना

मलामतियों को कहते हैं। मलामतियों का गिरोह वो लोग हैं जो अपने आरास्ता-ओ-पैरास्ता बातिन को ज़ाहिरी-ख़्वारी और ख़स्ता-हाली के पर्दा में मख़्फ़ी रखते हैं।

पसंदीदा विडियो

ई-पुस्तकें

शुरुआती दौर से लेकर तात्कालिक सूफ़ी साहित्य और संत-वाणी का अनूठा संग्रह

तसर्रुफ़

अज़ीज़ वारसी देहलवी

1985

Deewan-e-Mazhar

'मज़हर' मिर्ज़ा जान-ए-जानाँ

Aasar-e-Hazrat Mirza Mazhar Jaan-e-Janan Shaheed

2018

Deewan-e-Mazhar Jan-e-Janaan

'मज़हर' मिर्ज़ा जान-ए-जानाँ

Safeena-o-Sahil

अज़ीज़ वारसी देहलवी

1951

हम से जुड़िये

न्यूज़लेटर

* सूफ़ीनामा आपके ई-मेल का प्रयोग नियमित अपडेट के अलावा किसी और उद्देश्य के लिए नहीं करेगा