Sufinama

सूफ़ी लेख

सूफ़ियों के ताल्लुक़ से बेहतरीन और दिलकश मज़ामीन का मजमूआ पेश-ए-ख़िदमत है।

1974

शोधकर्ता और शायर, अपनी नज़्म "सोचने पे पहरा है" के लिए मशहूर/ प्रोफ़ेसर जेएनयू

1995

ख़ानक़ाह-ए-बल्ख़िया फ़िदोसिया, फ़तूहा के सज्जादा-नशीं के साहब-ज़ादे

वंशानुगत ख़ादिम ख़्वाजा गरीब नवाज़, अजमेर

1976

इलाहाबाद विश्वविद्यालय में उर्दू विभाग में सहायक प्रोफ़ेसर और हमीद वैशालवी के शागिर्द

1946

आरा के वारसी शाइ’र

1952

महत्वपूर्ण उत्तर-आधुनिक शायरों में विख्यात।

ٖफ़तेहपुर के युवा कवि और तसव्वुफ़ के प्रेमी

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए