Sufinama

आरज़ू

<div class="descWithTitle"><H2></H2></div>

सिखाई नाज़ ने क़ातिल को बेदर्दी की ख़ू बरसों

रही बेताब सीना में हमारी आरज़ू बरसों

अज़ीज़ सफ़ीपुरी

आरज़ू हसरत तमन्ना मुद्दआ कोई नहीं

जब से तुम हो मेरे दिल में दूसरा कोई नहीं

पुरनम इलाहाबादी

निकले जब कोई अरमाँ कोई आरज़ू निकली

तो अपनी हसरतों का ख़ून होना इस को कहते हैं

राक़िम देहलवी

हमारी आरज़ू दिल की तुम्हारी जुम्बिश-ए-लब पर

तमन्ना अब बर आती है अगर कुछ लब-कुशा तुम हो

राक़िम देहलवी

बयान-ए-दर्द-आगीं है कहेगा जा के क्या क़ासिद

हदीस-ए-आरज़ू मेरी परेशाँ दास्ताँ मेरी

राक़िम देहलवी

चश्म-ए-हक़-बीं हो चुकी है शाद-काम-ए-आर्ज़ू

तोड़ता है अब तिलिस्म-ए-जल्वा-ए-बातिल मुझे

पंडित शाएक़ वारसी

मुझे हर-क़दम तेरी जुस्तुजू मुझे हर-नफ़स तेरी आरज़ू

मुझे अपना ग़म है ग़म-ए-जहाँ तेरी शान जल्ला-जलालुहु

माएल वारसी

मुद्दतों से आरज़ू ये दिल में है

एक दिन तू घर हमारे आइए

बेदार मीर मोहम्मद

उस वक़्त तक सुलगती रही उस की आरज़ू

जब तक धुएँ से सारा बदन भर नहीं गया

मुज़फ़्फ़र वारसी

बाद-ए-रहमत मदीना से चलती रहे

ग़ुंचा-ए-आर्ज़ू मुस्कुराता रहे

हामिद वारसी गुजराती

मिलें भी वो तो क्यूँकर आरज़ू बर आएगी दिल की

होगा ख़ुद ख़याल उन को होगी इल्तिजा मुझ से

हसरत मोहानी

तसव्वुर में वो आएँगे तो पूरी आरज़ू होगी

वो मेरे पास होंगे और उन से गुफ़्तुगू होगी

सदिक़ देहलवी

हसरत-ओ-यास-ओ-आरज़ू शौक़ का इक़्तिदा करें

कुश्ता-ए-ग़म की लाश पर धूम से हो नमाज़-ए-इ’श्क़

बेदम शाह वारसी

साग़र की आरज़ू है पैमाना चाहिए

बस इक निगाह-ए-मुर्शिद-ए-मय-ख़ाना चाहिए

बेदम शाह वारसी

यही आरज़ू दिल में धरता अछे

ख़ुदा सूँ मुनाजात करता अछे

फायज

आरज़ू है कि तिरा ध्यान रहे ता-दम-ए-मर्ग

शक्ल तेरी नज़र आए मुझे जब आए अजल

मोहसिन काकोरवी

ये फ़रेब-ए-तस्कीं है तर्क-ए-आरज़ू मा’लूम

तर्क-ए-आरज़ू 'मैकश' ये भी आरज़ू ही है

मयकश अकबराबादी

लगते ही ठेस टूट गया साज़-ए-आरज़ू

मिलते ही आँख शीशा-ए-दिल चूर चूर था

जिगर मुरादाबादी

कुछ आरज़ू से काम नहीं 'इ’श्क़' को सबा

मंज़ूर उस को है वही जो हो रज़ा-ए-गुल

ख़्वाजा रुकनुद्दीन इश्क़

मिरी आरज़ू के चराग़ पर कोई तब्सिरा भी करे तो क्या

कभी जल उठा सर-ए-शाम से कभी बुझ गया सर-ए-शाम से

अज़ीज़ वारसी देहलवी

ये आरज़ू है कि मे’राज-ए-ज़िंदगी हो जाए

ग़ुलाम की दर-ए-आक़ा पे हाज़िरी हो जाए

एजाज़ वारसी

तुम्हारे तलवों के आरज़ू में पिसी हुई है घुली हुई है

हिना की सरसब्ज़ पत्तियों में जो लाल रंगत छिपी हुई है

मुज़्तर ख़ैराबादी

पहुँच जाती है किसी के गोश-ए-दिल तक

हमारी आरज़ू इतनी कहाँ है

बेनज़ीर शाह वारसी

दी सदा ये हातिफ़-ए-ग़ैबी ने हंगाम-ए-दुआ’

आरज़ू पूरी 'अ’ज़ीज़-ए-वारसी' हो जाएगी

अज़ीज़ वारसी देहलवी

साहिल की आरज़ू नहीं ता'लीम-ए-मुस्तफ़ा

ये नाव तो रोज़ानः ही मंजधार से हुई

मुज़फ़्फ़र वारसी

कहीं रुख़ बदल ले अब मिरी आरज़ू का धारा

वो बदल रहे हैं नज़रें मिरी ज़िंदगी बदल कर

अज़ीज़ वारसी देहलवी

खिलती कली गो मिरी आरज़ू की

गिरह उन के बंद-ए-क़बा की तो होती

बेनज़ीर शाह वारसी

इसे भी नावक-ए-जानाँ तू अपने साथ लेता जा

कि मेरी आरज़ू दिल से निकलने को तरसती है

बेदम शाह वारसी

आरज़ू थी कर्बला में दफ़्न होते 'अर्श' हम

देखते मर कर भी रौज़ा हज़रत-ए-शब्बीर का

अ‍र्श गयावी

मुझे ऐश-ओ-ग़म में ग़रज़ नहीं अगर आरज़ू है तो है यही

कि उमंग बन के छुपा रहे कोई दिल के पर्दा-ए-राज़ में

वली वारिसी

आरज़ू लाज़िम है वज्ह-ए-आरज़ू हो या हो

इल्तिफ़ात उस काफ़िर-ए-ख़ुद-बीं की ख़ूँ हो या हो

हसरत मोहानी

उम्मीदें तुझ से थीं वाबस्ता लाखों आरज़ू लेकिन

बहुत हो कर तिरी दरगाह से बे-ए'तिबार आई

हसरत मोहानी

दारम हम: जा बा-हमः-कस दर हम: हाल

दर दिल ज़े-तू आरज़ू दर दीद:-ख़्याल

मुल्ला जामी

तेरी उल्फ़त शो'बदा-पर्वाज़ है

आरज़ू गर है तमन्ना-साज़ है

बेदम शाह वारसी

बहार आने की आरज़ू क्या बहार ख़ुद है नज़र का धोका

अभी चमन जन्नत-नज़र है अभी चमन का पता नहीं है

अफ़क़र मोहानी

तेरे ग़म की हस्रत-ओ-आरज़ू है ज़बान-ए-इ’श्क़ में ज़िंदगी

जिन्हें मिल गया है ये मुद्दआ’ वो मक़ाम-ए-ज़ीस्त भी पा गए

सदिक़ देहलवी

आरज़ू ये है तुम्हारा आँचल आँखों से लगे

कुछ समझते हो कि हम रोते हुए आते हैं क्यूँ

आसी गाज़ीपुरी

'कौसर' वस्ल शाह-ए-हसीनाँ की आरज़ू

मुझ को नहीं जहाँ में हवस माल-ओ-जाह की

कौसर ख़ैराबादी

वो मल के दस्त-ए-हिनाई से दिल लहू करते

हम आरज़ू को हसीं ख़ून-ए-आरज़ू करते

रियाज़ ख़ैराबादी

दीजिए उन को कनार-ए-आरज़ू पर इख़्तियार

जब वो हों आग़ोश में बे-दस्त-ओ-पा हो जाइये

सीमाब अकबराबादी

वो तजल्ली जिस ने दश्त-ए-आरज़ू चमका दिया

कुछ तो मेरे दिल में है और कुछ कफ़-ए-मूसा में है

मुज़्तर ख़ैराबादी

सब कुछ ख़ुदा ने मुझ को दिया 'अर्श' बे-तलब

दुख़्तर की आरज़ू तमन्ना पिसर की है

अ‍र्श गयावी

आरज़ू के दिल पे आएँगी क्या क्या आफ़तें

दर-पय-ए-इंकार है ना-आश्नाई आप की

हसरत मोहानी

रफ़्त यार आरज़ू-ए-ऊ ज़े-जान-ए-मन न-रफ़्त

नक़्श-ए-ऊ अज़ पेश-ए-चश्म-ए-ख़ूँ-फ़िशान-ए-मन न-रफ़्त

अमीर ख़ुसरौ

रही ये आरज़ू आख़िर के दम तक

पहुँचा सर मिरा तेरे क़दम तक

ख़्वाजा रुकनुद्दीन इश्क़

गुनह कुछ होर भी करना तो कर ले आरज़ू मत रख

नहीं तेरे गुनाहाँ कूँ तो कच्चा हद्द-ओ-शुमार आख़िर

तुराब अली दकनी

पूछते हैं वो आरज़ू 'कौसर'

दिल में अरमाँ एक हो तो कहूँ

कौसर वारसी

हर आँख को है तिरी तमन्ना

हर दिल में तिरी ही आरज़ू है

आ’रिफ़ इस्लामपुरी

दोनों जानिब अगर आरज़ू वस्ल की कोई तूफ़ाँ उठाए तो मैं क्या करूँ

इ’श्क़ उन्हें गुदगुदाए तो वो क्या करें हुस्न मुझ को बुलाए तो मैं क्या करूँ

आरज़ू है 'वफ़ा' यही अपनी

उन के क़दमों में दम निकल जाए

वफ़ा वारसी

संबंधित विषय