Sufinama
noImage

अहमद

1603 - 1639

दोहा 14

'अहमद' लड़का पढ़न में कहु किन झोका खाय।

तन घट बह विद्या रतन भरत हिलाय हिलाय।।

  • शेयर कीजिए

करै जु करम अनेक ना बहै करम की रेह।

किये विधाता गुन प्रकट रोम रोम सब देह।।

  • शेयर कीजिए

गुन चाहत औगुन तजत, जगत बिदित ये अङ्क।

ज्यों पूरन ससि देखि के, सब कोऊ कहत कलंक।।

  • शेयर कीजिए

सोरठा 2

 

Added to your favorites

Removed from your favorites