Sufinama
Ameer Minai's Photo'

अमीर मीनाई

1829 - 1900 | रामपुर, भारत

दाग़ देहलवी के समकालीन। अपनी ग़ज़ल ' सरकती जाए है रुख़ से नक़ाब आहिस्ता आहिस्ता ' के लिए प्रसिद्ध हैं।

दाग़ देहलवी के समकालीन। अपनी ग़ज़ल ' सरकती जाए है रुख़ से नक़ाब आहिस्ता आहिस्ता ' के लिए प्रसिद्ध हैं।

अमीर मीनाई की रूबाईयात

9
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI