Font by Mehr Nastaliq Web
Sufinama
Kabir's Photo'

कबीर

1440 - 1518 | लहरतारा, भारत

पंद्रहवीं सदी के एक सूफ़ी शाइ’र और संत जिन्हें भगत कबीर के नाम से भी जाना जाता है, कबीर अपने दोहे की वजह से काफ़ी मशहूर हैं, उन्हें भक्ति तहरीक का सबसे बड़ा शाइ’र होने का ए’ज़ाज़ हासिल है

पंद्रहवीं सदी के एक सूफ़ी शाइ’र और संत जिन्हें भगत कबीर के नाम से भी जाना जाता है, कबीर अपने दोहे की वजह से काफ़ी मशहूर हैं, उन्हें भक्ति तहरीक का सबसे बड़ा शाइ’र होने का ए’ज़ाज़ हासिल है

कबीर की साखी

293
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

कबीर संगत साध की हरै और की ब्याधि

संगत बुरी असाध की आठो पहर उपाधि

संगति भई तो क्या भया हिरदा भया कठोर

नौ नेजा पानी चढ़ै तऊ भीजै कोर

जब मैं था तब गुरु नहीं अब गुरू है हम नाहीँ

प्रेम गली अति साँकरी ता में दो समांंहि

आठ पहर चौंसठ घड़ी मेरे और कोय

नैना माहीं तू बसै नींद को ठौर होय

सुखिया सब संसार है खावै सोवै

दुखिया दास 'कबीर' है जागै रोवै

प्रीतम को पतियाँ लिखूँ जो कहुँ होय बिदेस

तन में मन में नैन में ता को कहा सँदेस

राम बुलावा भेजिया दिया 'कबीरा' रोय

जो सुख साधू संग में सो बैकुंठ होय

प्रेम बिना धीरज नहीं बिरह बिना बैराग

सतगुरु बिन जावै नहीं मन मनसा का दाग़

जो आवै तो जाय नहिं जाय तो आवै नाहिं

अकथ कहानी प्रेम की समुझि लेहु मन माहिँ

एक सीस का मानवा करता बहुतक हीस

लंकापति रावन गया बीस भुजा दस सीस

प्रेंम छिपाया ना छिपै जा घट परघट होय

जो पै मुख बोलै नहीं तो नैन देत हैं रोय

आया बगूला प्रेम का तिनका उड़ा अकास

तिनका तिनका से मिला तिनका तिनके पास

प्रेम तो ऐसा कीजिये जैसे चंद चकोर

घींच टूटि भुइँ माँ गिरै चितवै वाही ओर

धरती अम्बर जायँगैं बिनसैंगे कैलास

एकमेक होइ जायँगैं तब कहाँ रहैंगे दास

आया प्रेम कहाँ गया देखा था सब कोय

छिन रोवै छिन में हँसै सो तो प्रेम होय

मेरा मन तो तुज्झ से तेरा मन कहुँ और

कह कबीर कैसे बनै एक चित्त दुइ ठौर

सो दिन कैसा होयगा गुरू गहेंगे बाँहि

अपना करि बैठावहीं चरन कँवल की छाँहि

साधुन के सतसंग तें थरहर काँपै देंह

कबहुँ भाव कुभाव तें मत मिटि जाय सनेह

सबै रसायन मैं किया प्रेम समान कोय

रति इक तन में संचरै सब तन कंचन होय

'कबीर' प्याला प्रेम का अंतर लिया लगाय

रोम रोम में रमि रहा और अमल बया खाय

अनराते सुख सोवना, राते नींद आय

ज्यों जल टूटे माछरी तलफत रैन बिहाय

जब लगि मरने से जरै तब लगि प्रेम नाहिं

बड़ी दूर है प्रेम घर समुझि लेहु मन माहिँ

'कबीर' जंत्र बाजई टूटि गया सब तार

जंत्र बिचार: क्या करै चला बजावनहार

घाटहि पानी सब भरै औघट भरै कोय

औघट घाट 'कबीर' का भरै सो निर्मल होय

ये जिव आया दूर तें जाना है बहु दूर

बिच के बासे बसि गया काल रहा सिर पूर

दास दुखी तो हरि दुखी आदि अंत तिहुँ काल

पलक एक में परगट ह्वै छिन में करै निहाल

जब लग कथनी हम कथी दूर रहा जगदीस

लव लागी कल ना परै अब बोलत हदीस

सब आये उस एक में डार पात फल फूल

अब कहो पाछे क्या रहा गहि पकड़ा जब मूल

अँखियन तो झाँईं परी पंथ निहार निहार

जिभ्या तो छाला परा नाम पुकार पुकार

मरिये तो मरि जाइये छुटि परै जंजार

ऐसा मरना को मरै दिन में सौ सौ बार

प्रेम भाव इक चाहिये भेष अनेक बनाय

भावे गृह में बास कर भावे बन में जाय

सब कछु गुरू के पास है पइये अपने भाग

सेवक मन से प्यार है निसु दिन चरनन लाग

उत्तम प्रीति सो जानिये सतगुरु से जो होय

गुनवंता द्रब्य की प्रीति करै सब कोय

देखत देखत दिन गया निस भी देखत जाय

बिरहिन पिय पावै नहीं बेकल जिय घबराए

पतिबरता बिभिचारिनी एक मंदिर में बास

वह रँग-राती पीव के ये घर घर फिरै उदास

लब लागी तब जानिये छूटि कभूँ नहिं जाय

जीवत लव लागी रहै मूए तहँहि समाय

प्रीति जो लागी घुलि गइ पैठि गई मन माहि

रोम रोम पिउ पिउ करै मुख की सिरधा नाहिं

जा घट प्रेम संचरै सो घट जानु समान

जैसे खाल लोहार की साँस लेत बिन प्रान

'कबीर' रेख सिंदुर अरू काजर दिया जाय

नैनन प्रीतम रमि रहा दूजा कहाँ समाय

बिन पाँवन की राह है बिन बस्ती का देस

बिना पिंड का पुरूष है कहै 'कबीर' सँदेस

हिरदे भीतर दव बलैं धुआँ परगट होय

जा के लागी सो लखै की जिन लाई सोय

प्रेम प्रेम सब कोइ कहै प्रेम चीन्है कोय

आठ पहर भीना रहै प्रेम कहावै सोय

जहाँ प्रेम तहँ नेम नहि तहाँ बुधि ब्यौहार

प्रेम मगन जब मन भया तब कौन गिनै तिथि बार

सुर नर थाके मुनि जना थाके बिस्नु महेस

तहाँ 'कबीरा' चढ़ि गया सत-गुरु के उपदेस

प्रेम भक्ति का गेह है ऊँचा बहुत इकन्त

सीस काटी पग तर धरै तब पहुँचै घर संत

प्रेम पियारे लाल सों मन दे कीजै भाव

सतगुरु के प्रसाद से भला बना है दाव

पीर पुरानी बिरह की पिंजर पीर जाय

एक पीर है प्रीति की रही कलेजे छाय

जो जागत सो स्वप्न में ज्यों घट भीतर स्वास

जो जन जा को भावता सो जनता के पास

जल में बसै कमोदिनी चंदा बसै अकास

जो है जा का भावता सो ताही के पास

जो ये एकै जानिया तौ जानौ सब जान

जो ये एक जानिया तौ सबही जान अजान

aaj ik aur baras biit gayā us ke baġhair

jis ke hote hue hote the zamāne mere

Recitation

Jashn-e-Rekhta | 8-9-10 December 2023 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate - New Delhi

GET YOUR PASS
बोलिए