Sufinama
noImage

वाजिदजी दादूपंथी

1651

पद 14

छंद 5

 

कुंडलिया 11

राग आधारित पद 4

 

साखी 3

स्वारथि साथी जगत सब, बिन स्वारथ नहिं कोइ।

बाजीदा बिन स्वार्थी, अपलट अबिहर सोइ।।

  • शेयर कीजिए

बाबै सकरा सांनि करि, पै पानी परि देइ।

बाजीद निंहचैं नींब कौ, करवौई फर लेई।।

  • शेयर कीजिए

बाजीद दास के पास कौं, फल कहा बरनैं कोइ।

तांबै तै कंचन भयौ, पारस परसैं लोइ।।

  • शेयर कीजिए
 

झूलना 1

 

अरिल्ल 15