Sufinama

साखी 6

कोयल अंडे काक गृह, सुत निपजे पर सेव

त्यों रज्जब शिष भाव को, प्रति पाले गुरू देव ।।

  • शेयर कीजिए

'रज्जब' राम रहम कर अक्षर लिखे भाल

ताथें सद्गुरू ना मिलया गुरू शिष रहे कंगाल

  • शेयर कीजिए

अथ जतन का अंग - जन 'रज्जब' राखे बिना नाम राख्या जाय

जैसे दीपक जतन बिन विसवाबीस बुझाय

  • शेयर कीजिए

"सांगनेर" के और शायर

  • शेख़ बहाउद्दीन बाजन शेख़ बहाउद्दीन बाजन
  • रसनिधि रसनिधि
  • मोहम्मद अकबर वारसी मोहम्मद अकबर वारसी
  • कौसर ख़ैराबादी कौसर ख़ैराबादी
  • भीखा साहेब भीखा साहेब
  • पलटू साहेब पलटू साहेब
  • माशूक़ अल्लाह माशूक़ अल्लाह
  • सूरदास सूरदास
  • क़ाज़ी महमूद दरियाई क़ाज़ी महमूद दरियाई
  • फ़ज़ीहत शाह वारसी फ़ज़ीहत शाह वारसी