Font by Mehr Nastaliq Web
Sufinama

ग़म पर अशआर

ग़म ग़म अ’रबी भाषा से

लिया गया शब्द है।उर्दू में अपने मूल अर्थ और परिवर्तित संरचना के साथ एक संज्ञा के रूप में उपयोग किया जाता है। इसका अर्थ है रंज, अंदोह, दुख, मलाल, अलम और अफ़्सोस। 1503 ई’स्वी के आसपास इस शब्द का प्रयोग सर्वप्रथम देखने को मिलता है।तसव्वुफ़ में ख़ुदा की तलाश में उठाई जाने वाली तक्लीफ़ को ग़म कहा जाता है।

जो मिटा है तेरे जमाल पर वो हर एक ग़म से गुज़र गया

हुईं जिस पे तेरी नवाज़िशें वो बहार बन के सँवर गया

फ़ना बुलंदशहरी

महसूस ये हुआ मुझे एहसास-ए-ग़म के साथ

मैं उस के दम के साथ हूँ वो मेरे दम के साथ

कामिल शत्तारी

देखिए अब के ग़म से जी मेरा

बचेगा बचेगा क्या होगा

ख़्वाजा मीर दर्द

मिला है जो मुक़द्दर में रक़म था

ज़हे क़िस्मत मिरे हिस्से में ग़म था

वासिफ़ अली वासिफ़

शब-ए-ग़म किस आराम से सौ गए हम

फ़साना तिरी याद का कहते कहते

हसरत मोहानी

मैं वो साफ़ ही कह दूँ जो है फ़र्क़ मुझ में तुझ में

तिरा दर्द दर्द-ए-तन्हा मिरा ग़म ग़म-ए-ज़माना

जिगर मुरादाबादी

रखते हैं दुश्मनी भी जताते हैं प्यार भी

हैं कैसे ग़म-गुसार मिरे ग़म-गुसार भी

पुरनम इलाहाबादी

कर नासेहा ज़ब्त-ए-ग़म की नसीहत

कि है सब्र दुश्वार जान-ए-हज़ीं पर

हसरत मोहानी

दुनिया के हर इक ग़म से बेहतर है ग़म-ए-जानाँ

सौ शम्अ' बुझा कर हम इक शम्अ' जला लेंगे

फ़ना निज़ामी कानपुरी

रखा अब कहीं का दिल-ए-बे-क़रार ने

बर्बाद कर दिया ग़म-ए-बे-इख़्तियार ने

कामिल शत्तारी

ब-सद ना-मुरादी मुराद अपनी 'कामिल'

किसी का ग़म-ए-मो'तबर अल्लाह अल्लाह

कामिल शत्तारी

आख़िर ग़म-ए-हयात के मातम से फ़ाएदा

ग़म ज़िंदगी के साथ ख़ुशी ज़िंदगी के साथ

कामिल शत्तारी

दिल गया रौनक़-ए-हयात गई

ग़म गया सारी काएनात गई

जिगर मुरादाबादी

कभी वर्ता-ए-ग़म में दिल को डुबो कर कभी ख़ून पी कर कभी ख़ून रो कर

बहुत कुछ अभी अपनी रूदाद-ए-ग़म को इसी तरह रंगीं बनाना पड़ेगा

कामिल शत्तारी

कुछ रहा भी है बीमार-ए-ग़म में

अब दवा हो तो किस की दवा हो

बेदम शाह वारसी

जो दिल हो जल्वा-गाह-ए-नाज़ इस में ग़म नहीं होता

जहाँ सरकार होते हैं वहाँ मातम नहीं होता

कामिल शत्तारी

मिट जाये अपनी हस्ती-ए-मौहूम ग़म है क्या

हो दिल को तिरा ग़म कोई हो हो हो हो

इम्दाद अ'ली उ'ल्वी

वो आँख मेरे लिए नम है क्या किया जाए

उसे भी आज मिरा ग़म है क्या किया जाए

पुरनम इलाहाबादी

मैं तलख़ी-ए-हयात से घबरा के पी गया

ग़म की सियाह रात से घबरा के पी गया

साग़र सिद्दीक़ी

बस वही पाता है ऐ’श-ए-ज़िंदगी

जिस को ग़म में मुब्तला करता है इ'श्क़

अज़ीज़ सफ़ीपुरी

ख़ुशी महसूस करता हूँ ग़म महसूस करता हूँ

मगर हाँ दिल में कुछ कुछ ज़ेर-ओ-बम महसूस करता हूँ

बह्ज़ाद लखनवी

तमव्वुज बहर-ए-ग़म का देखते हो

हबाब-ए-दिल है दरिया-दिल हमारा

आसी गाज़ीपुरी

पूछो पता 'अकबर'-ए-ग़म-ज़दः का

कहीं होगा थामे जिगर देख लेना

अकबर वारसी मेरठी

आज उनके दामन पर अश्क मेरे ढलते हैं

ग़म के तेज़-रू धारे रास्ते बदलते हैं

सई’द शहीदी

ग़म-ए-जानाँ को जान-ए-जाँ बना ले देख दीवाने

ग़म-ए-जानाँ से बढ़ कर और कोई ग़म नहीं हो

फ़ना बुलंदशहरी

कौन रहता है तेरे ग़म के सिवा

इस दिल-ए-ख़ानुमाँ-ख़राब के बीच

ख़्वाजा मीर असर

उ’म्र गुज़रे इसी कश्मकश में मिरी

ग़म सताता रहे ख़ूँ रुलाता रहे

हामिद वारसी गुजराती

इ'श्क़ में तेरे कोह-ए-ग़म सर पे लिया जो हो सो हो

ऐश-ओ-निशात-ए-ज़िंदगी छोड़ दिया जो हो सो हो

शाह नियाज़ अहमद बरेलवी

जो ग़म में मसर्रत की घुलने को हुए पैदा

बद-बख़्त वो क्या जानें ख़ुद ग़म की मसर्रत को

कामिल शत्तारी

ग़म-ए-जानाँ ग़म-ए-अय्याम के साँचे में ढलता है

कि इक ग़म दूसरे का चारागर है हम कहते थे

वासिफ़ अली वासिफ़

वो मजनूँ की तस्वीर पर पूछना

तिरी किस के ग़म में ये सूरत हुई

अ‍र्श गयावी

ग़म से नाज़ुक ज़ब्त-ए-ग़म की बात है

ये भी दरिया है मगर ठहरा हुआ

फ़ना निज़ामी कानपुरी

नहीं होती वफ़ा की मंज़िलें आसाँ कभी उस पर

मोहब्बत में जो हस्ती आश्ना-ए-ग़म नहीं होती

सदिक़ देहलवी

सर्फ़-ए-ग़म हम ने नौजवानी की

वाह क्या ख़ूब ज़िंदगानी की

ख़्वाजा मीर असर

क्या ग़म जो टूट जाएँ जिगर, जाँ, कलेजा, दिल

पर तेरी चाह की तमन्ना शिकस्त हो

सुलेमान शिकोह गार्डनर

क्या इन आहों से शब-ए-ग़म मुख़्तसर हो जाए गी

ये सह सेहर होने की बातें हैं सेहर हो जाए गी

क़मर जलालवी

किए मुझ पे एहसाँ ग़म-ए-यार ने

हमेशा को नीची नज़र हो गई

जिगर मुरादाबादी

तेरे ग़म ने ये दिन दिखाया मुझे

कि मुझ से ही आख़िर छुड़ाया मुझे

बेनज़ीर शाह वारसी

पी भी लूँ आँसू तो आख़िर रंग-ए-रुख़ को क्या करूँ

सोज़-ए-ग़म को क्या किसी उनवाँ छुपा सकता हूँ मैं

कामिल शत्तारी

फ़ुर्क़त में तिरे ग़म-ओ-अलम ने

तन्हा मुझे पा के मार डाला

बेदम शाह वारसी

और कुछ ग़म नहीं ग़म ये है

आप मिल कर जुदा हो गए

पुरनम इलाहाबादी

'सीमाब' की सरमस्ती और ग़म-कदा-ए-हस्ती

दीवाना है दीवाना दीवाने से

सीमाब अकबराबादी

सहते सहते ग़म मोहब्बत के ये हालत हो गई

हँस के बोला जो कोई उस से मोहब्बत हो गई

मयकश अकबराबादी

नहीं चलती कोई तदबीर ग़म में

यही क्या कम है जो आँसू रवाँ है

बेनज़ीर शाह वारसी

जिस रोज़ कि पहुँचे है नई कोई मुसीबत

उस रोज़ तेरा ख़ूगर-ए-ग़म ईद करे है

ग़ुलाम नक्शबंद सज्जाद

क्या ग़म-ए-हिज्र क्या सुरूर-ए-विसाल

गुज़राँ है दवाम कुछ भी है

मीर मोहम्मद बेदार

उठे क्या ज़ानू-ए-ग़म से सर अपना

बहुत गुज़री रही हैहात थोड़ी

अमीर मीनाई

ऐसे भी हैं दुनिया में जिन्हें ग़म नहीं होता

इक ग़म है हमारा जो कभी कम नहीं होता

रियाज़ ख़ैराबादी

ज़ुल्फ़ों का तसव्वुर सलामों की है बारिश

मजबूर ग़म-ए-इ’श्क़ की हर शाम हसीं है

हयात वारसी

मौत से आप की उल्फ़त ने बचा रक्खा है

वर्ना बीमार-ए-ग़म-ए-हिज्र में क्या रक्खा

फ़ना बुलंदशहरी

aaj ik aur baras biit gayā us ke baġhair

jis ke hote hue hote the zamāne mere

संबंधित विषय

Jashn-e-Rekhta | 8-9-10 December 2023 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate - New Delhi

GET YOUR PASS
बोलिए