Sufinama
Wasif Ali Wasif's Photo'

वासिफ़ अली वासिफ़

1929 - 1993 | लाहौर, पाकिस्तान

पाकिस्तान की मशहूर रुहानी शख़्सियत और मुमताज़ मुसन्निफ़

पाकिस्तान की मशहूर रुहानी शख़्सियत और मुमताज़ मुसन्निफ़

वासिफ़ अली वासिफ़ के सूफ़ी उद्धरण

201
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

बेहतरीन कलाम वही है जिसमें अल्फ़ाज़ कम और मा’नी ज़्यादा हों।

बदी की तलाश हो तो अपने अंदर झाँको, नेकी की तमन्ना हो तो दूसरों में ढूंढ़ो।

अच्छे लोगों का मिलना एक अच्छे भविष्य की ज़मानत है।

वो शख़्स अल्लाह को नहीं मानता जो अल्लाह का हुक्म नहीं मानता।

दुनिया क़दीम है लेकिन इसका नयापन कभी ख़त्म नहीं होता।

हम सिर्फ़ ज़बान से अल्लाह अल्लाह कहते रहते हैं, अल्लाह लफ़्ज़ नहीं, अल्लाह आवाज़ नहीं, अल्लाह पुकार नहीं, अल्लाह तो ज़ात है मुक़द्दस-ओ-मावरा, उस ज़ात से दिल का तअ’ल्लुक़ है ज़बान का नहीं, दिल अल्लाह से मुतअ’ल्लिक़ हो जाए तो हमारा सारा वजूद दीन के साँचे में ढल जाना लाज़िमी है।

बच्चा बीमार हो तो माँ को दु’आ माँगने का सलीक़ा ख़ुद ब-ख़ुद जाता है।

हम लोग फ़िरऔन की ज़िंदगी चाहते हैं और मूसा की आ’क़िबत।

मनुष्य कार्य योजना या विचारधारा से प्रेम नहीं कर सकता, मनुष्य केवल मनुष्य से प्रेम कर सकता है।

दूसरों की ख़ामी आपकी ख़ूबी नहीं बन सकती।

राय बदल सकती है लेकिन तथ्य नहीं बदल सकता।

किसी चीज़ से इस की फ़ित्रत के ख़िलाफ़ काम लेना ज़ुल्म है।

दूर से आने वाली आवाज़ भी अंधेरे में रौशनी का काम करती है।

बेदार कर देने वाला ग़म ग़ाफ़िल कर देने वाली ख़ुशी से ब-दर्जहा बेहतर है।

जिसने अपनी ज़िंदगी को क़ुबूल कर लिया उसने ख़ुदा को मान लिया।

सुनने वाले का शौक़ ही बोलने वाले की ज़बान तेज़ करता है।

उस की अ’ताओं पर अल-हम्दु-लिल्लाह और अपनी ख़ताओं पर अस्तग़फ़िरुल्लाह करते ही रहना चाहिए।

चाँदनी में चाँद नहीं होता और चाँद पर चाँदनी नहीं होती।

दीन-ओ-दुनिया... जिस शख़्स के बीवी बच्चे उस पर राज़ी हैं, उस की दुनिया कामियाब है और जिसके माँ बाप उस पर ख़ुश हैं उस का दीन कामियाब।

तालिब-ए-इ’ल्म मुल्क के वारिस होते हैं।

किसी के एहसान को अपना हक़ समझ लेना।

हुज़ूर की बात पर किसी और की बात को प्राथमिकता देना ऐसे है जैसे शिर्क।

हमारे बा’द दुनिया वैसी ही बाक़ी रहेगी, जैसी हमारे आने से पहले थी।

ख़ुश-नसीब इन्सान वो है जो अपने नसीब पर ख़ुश रहे।

हम एक अ’ज़ीम क़ौम बन सकते हैं अगर हम मुआ’फ़ करना और मुआ’फ़ी माँगना शुरू’ कर दें।

इतना फैलो कि सिमटना मुश्किल हो, उतना हासिल करो कि छोड़ते वक़्त तकलीफ़ हो।

जिसने माँ बाप का अदब किया उस की औलाद भी उसका अदब करेगी।।।नहीं तो नहीं।

लोग दोस्त को छोड़ देते हैं बहस को नहीं छोड़ते।

जो लोग अल्लाह की तलाश में निकलते हैं वो इन्सान तक ही पहुंचते हैं, अल्लाह वाले इन्सान ही तो होते हैं।

गुनाहों में मुब्तला इन्सान का दु’आओं पर यक़ीन नहीं रहता।

आज का इन्सान सिर्फ़ मकान में रहता है उस का घर ख़त्म हो गया।

दु’आ करने से बेहतर है कि किसी दु’आ करने वाले को पा लिया जाए।

यदि झूठा आदमी ईश्वर का वचन भी बोल दे तो उसका कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा।सत्य को व्यक्त करने के लिए सच्चे व्यक्ति की भाषा की आवश्यकता होती है। जितना बड़ा सच्चा, उतना बड़ा सच।

मौत से ज़्यादा ख़ौफ़-नाक चीज़ मौत का डर है।

उपदेशक मत बनो जब तक कि कोई तुमसे कहे।

उ’रूज उस वक़्त को कहते हैं जिस के बा’द ज़वाल शुरू’ होता है।

अपने इ'ल्म को अ'मल में लाने के लिए यक़ीन के साथ साथ एक रहनुमा की ज़रूरत होती है।

इंकार इक़रार की एक हालत है, उसका एक दर्जा है, इंकार को इक़रार तक पहुंचाना, , बुद्धिमानी का काम है, उसी तरह कुफ़्र को इस्लाम तक लाना, ईमान वाले की ख़्वाहिश होना चाहिए।

काइनात का कोई ग़म ऐसा नहीं है जो आदमी बर्दाश्त कर सके।

दिल से कड़वाहट निकालो... शांति मिलेगी।

इस दुनिया में इन्सान कुछ खोता है पाता है। वो तो सिर्फ़ आता है और जाता है।

ज़िंदगी ख़ुदा से मिली है ख़ुदा के लिए इस्ति’माल करें, दौलत ख़ुदा से मिली है ख़ुदा की राह में इस्ति’माल करें।

केवल शब्दों ने ही मनुष्य को जानवरों से अधिक प्रतिष्ठित बना दिया है।

मुआ’फ़ कर देने वाले के सामने गुनाह की क्या अहमियत? अ’ता के सामने ख़ता का क्या ज़िक्र?

तस्लीम के बा'द तहक़ीक़ गुमराह कर देती है।

आपका अस्ल साथी और आपकी सही पहचान आपके अंदर का इन्सान है, उसी ने इ’बादत करना है और उसी ने बग़ावत, वही दुनिया वाला बनता है और वही आख़िरत वाला, उसी के अंदर के इन्सान ने आपको जज़ा-ओ-सज़ा का मुस्तहिक़ बनाना है, फ़ैसला आपके हाथ में है, आप का बातिन ही आपका बेहतरीन दोस्त है और वही बद-तरीन दुश्मन, आप ख़ुद ही अपने लिए दुश्वारी-ए-सफ़र हो और ख़ुद ही शादाबी-ए-मंज़िल, बातिन महफ़ूज़ हो गया, तो ज़ाहिर भी होगा।

वलियों की सुहबत में रहो।।सुकून मिल जाएगा।

सूरज दूर है लेकिन धूप क़रीब है।

आपकी क़ियामत उस दिन आजाएगी जिस दिन आप नहीं होंगे।

छिन जाने के बा’द बहिश्त कीक़द्र होती है।

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए