Font by Mehr Nastaliq Web
Sufinama
Baba Farid's Photo'

बाबा फ़रीद

1173 - 1266 | कोथेवाल, पाकिस्तान

बारहवीं सदी के मुबल्लिग़ और सूफ़ी बुज़ुर्ग थे, उनको क़ुरून-इ-वुस्ता के सबसे मुमताज़ और क़ाबिल-ए-एहतिराम सूफ़िया में से एक कहा गया है, उनका मज़ार पाकपतन, पाकिस्तान में है

बारहवीं सदी के मुबल्लिग़ और सूफ़ी बुज़ुर्ग थे, उनको क़ुरून-इ-वुस्ता के सबसे मुमताज़ और क़ाबिल-ए-एहतिराम सूफ़िया में से एक कहा गया है, उनका मज़ार पाकपतन, पाकिस्तान में है

बाबा फ़रीद

कविता 6

सलोक 121

सूफ़ी उद्धरण 29

Do not forget death at any place.

Do not forget death at any place.

  • शेयर कीजिए

Consider worldliness as an unforeseen calamity.

Consider worldliness as an unforeseen calamity.

  • शेयर कीजिए

Do not-lose your temper at the bitter words of the enemy and do not lose your shield by being overpowered with anger.

Do not-lose your temper at the bitter words of the enemy and do not lose your shield by being overpowered with anger.

  • शेयर कीजिए

If you want ease and comfort, do not be jealous.

If you want ease and comfort, do not be jealous.

  • शेयर कीजिए

Be critical of your own shortcomings.

Be critical of your own shortcomings.

  • शेयर कीजिए

मल्फ़ूज़ 15

संबंधित ब्लॉग

 

संबंधित सुफ़ी शायर

Recitation

Jashn-e-Rekhta | 8-9-10 December 2023 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate - New Delhi

GET YOUR PASS
बोलिए