Sufinama
Zaheen Shah Taji's Photo'

ज़हीन शाह ताजी

1902 - 1978 | कराची, पाकिस्तान

मा’रूफ़ शाइ’र, अदीब, मुसन्निफ़ और सूफ़ी

मा’रूफ़ शाइ’र, अदीब, मुसन्निफ़ और सूफ़ी

ज़हीन शाह ताजी

ग़ज़ल 5

 

शे'र 8

कलाम 63

रूबाई 1

 

ना'त-ओ-मनक़बत 17

वीडियो 29

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
अन्य वीडियो

शुभा मुदगल

आबिदा परवीन

आबिदा परवीन

शुभा मुदगल

आबिदा परवीन

अल्लाह अल्लाह अ'ज़्मत-ए-सरकार ताज-उल-औलिया

मुहम्मद आसिफ़ ताजी

कसरत-ए-हुस्न में भी आ'लम-ए-तन्हाई है

कप्तान रिज़वान

ग़फ़लत न थी तसव्वुर-ए-दीदार-ए-यार था

सुभा मुद्गल

जब मैं न देखता हूँ तो देखा करूँ तुझे

फरीद अयाज़

जी चाहे तू शीश: बन जा जी चाहे पैमाना बन जा

आबिदा परवीन

जी चाहे तू शीश: बन जा जी चाहे पैमाना बन जा

कविता सेथ

जो जल्वा-गाह-ए-यार है वो दिल यही तो है

जो जल्वा-गाह-ए-यार है वो दिल यही तो है

अ'ली रज़ा क़ादरी

जो जल्वा-गाह-ए-यार है वो दिल यही तो है

ज़कि ज़मान ताजी

तू ने दीवाना बनाया तो मैं दीवाना बना

फरीद अयाज़

तू ने दीवाना बनाया तो मैं दीवाना बना

तू ने दीवाना बनाया तो मैं दीवाना बना

Zzy

तू ने दीवाना बनाया तो मैं दीवाना बना

फरीद अयाज़

तू ने दीवाना बनाया तो मैं दीवाना बना

नादिया अम्बर लूधी

तू ने दीवाना बनाया तो मैं दीवाना बना

शाहिद अहमद

तेरे दर के फ़क़ीर हैं हम लोग

हमज़ा अकरम

तेरे दर के फ़क़ीर हैं हम लोग

ज़कि ज़मान ताजी

तेरे दर के फ़क़ीर हैं हम लोग

दिल जा रहा है हाथ से हाथ आ रहा है क्या

ज़िला ख़ान

बस उन की ख़ुशी जानना चाहता हूँ

बस उन की ख़ुशी जानना चाहता हूँ

नज्मुद्दिन सैफ़ुद्दिन और ब्रदर्स

लुत्फ़ हक़ बर जहाँ मुई'नुद्दीन

ज़कि ज़मान ताजी

सरापा हुस्न भी तुम हो सरापा इ'श्क़ भी तुम हो

ज़कि ज़मान ताजी

संबंधित सुफ़ी शायर

"कराची" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

बोलिए